RSS

एक रि पोस्ट :- जन्मदिन पर विशेष :- क्रांतिकारी सुखदेव को अंग्रेजों ने दी बिना जुर्म की सजा

15 मई
जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में भारतीय भाषा विभाग के अध्यक्ष और इतिहासकार चमन लाल का कहना है कि सांडर्स हत्याकांड में सुखदेव शामिल नहीं थे, लेकिन फिर भी ब्रितानिया हुकूमत ने उन्हें फांसी पर लटका दिया। उनका कहना है कि राजगुरु, सुखदेव और भगत सिंह की लोकप्रियता तथा क्रांतिकारी गतिविधियों से अंग्रेजी शासन इस कदर हिला हुआ था कि वह उन्हें हर कीमत पर फांसी पर लटकाना चाहता था।

अंग्रेजों ने भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की फांसी को अपनी प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया था और वे हर कीमत पर इन तीनों क्रांतिकारियों को ठिकाने लगाना चाहते थे। लाहौर षड्यंत्र [सांडर्स हत्याकांड] में जहां पक्षपातपूर्ण ढंग से मुकदमा चलाया गया, वहीं अंग्रेजों ने सुखदेव के मामले में तो सभी हदें पार कर दीं और उन्हें बिना जुर्म के ही फांसी पर लटका दिया।

उन्होंने कहा कि सांडर्स हत्याकांड में पक्षपातपूर्ण ढंग से मुकदमा चलाया गया और सुखदेव को इस मामले में बिना जुर्म के ही सजा दे दी गई। पंद्रह मई १९०७ को पंजाब के लायलपुर [अब पाकिस्तान का फैसलाबाद] में जन्मे सुखदेव भी भगत सिंह की तरह बचपन से ही आजादी का सपना पाले हुए थे। ये दोनों लाहौर नेशनल कॉलेज के छात्र थे। दोनों एक ही सन में लायलपुर में पैदा हुए और एक ही साथ शहीद हो गए।
चमन लाल ने बताया कि दोनों के बीच गहरी दोस्ती थी। चंद्रशेखर आजाद के नेतृत्व में पब्लिक सेफ्टी और ट्रेड डिस्प्यूट बिल के विरोध में सेंट्रल असेंबली में बम फेंकने के लिए जब हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी [एचएसआरए] की पहली बैठक हुई तो उसमें सुखदेव शामिल नहीं थे। बैठक में भगत ने कहा कि बम वह फेंकेंगे, लेकिन आजाद ने उन्हें इजाजत नहीं दी और कहा कि संगठन को उनकी बहुत जरूरत है। दूसरी बैठक में जब सुखदेव शामिल हुए तो उन्होंने भगत सिंह को ताना दिया कि शायद तुम्हारे भीतर जिंदगी जीने की ललक जाग उठी है, इसीलिए बम फेंकने नहीं जाना चाहते। इस पर भगत ने आजाद से कहा कि बम वह ही फेंकेंगे और अपनी गिरफ्तारी भी देंगे।
चमन लाल ने बताया कि अगले दिन जब सुखदेव बैठक में आए तो उनकी आंखें सूजी हुइ थीं। वह भगत को ताना मारने की वजह से सारी रात सो नहीं पाए थे। उन्हें अहसास हो गया था कि गिरफ्तारी के बाद भगत सिंह की फांसी निश्चित है। इस पर भगत सिंह ने सुखदेव को सांत्वना दी और कहा कि देश को कुर्बानी की जरूरत है। सुखदेव ने अपने द्वारा कही गई बातों के लिए माफी मांगी और भगत सिंह इस पर मुस्करा दिए। दोनों के परिवार लायलपुर में पास-पास ही रहा करते थे।
भारत माँ के इस सच्चे सपूत सुखदेव को उनके जन्मदिन के अवसर पर हम सब की ओर से शत शत नमन !!

वन्दे मातरम !!
Advertisements
 
11 टिप्पणियाँ

Posted by on मई 15, 2011 in बिना श्रेणी

 

11 responses to “एक रि पोस्ट :- जन्मदिन पर विशेष :- क्रांतिकारी सुखदेव को अंग्रेजों ने दी बिना जुर्म की सजा

  1. Udan Tashtari

    मई 15, 2011 at 2:58 पूर्वाह्न

    शत शत नमन !!

     
  2. Indranil Bhattacharjee ........."सैल"

    मई 15, 2011 at 7:27 पूर्वाह्न

    मिश्र जी, जन्मदिन की हार्दिक बधाइयाँ …

    शहीद सुखदेव के लिए मन से नमन !

     
  3. Coral

    मई 15, 2011 at 7:53 पूर्वाह्न

    शहीद सुखदेवजी को शत शत नमन…..

    आपको जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

     
  4. प्रवीण पाण्डेय

    मई 15, 2011 at 10:45 पूर्वाह्न

    नमन, अंग्रेजों का अन्याय सर्वविदित है।

     
  5. डॉ टी एस दराल

    मई 15, 2011 at 10:55 पूर्वाह्न

    अच्छा संयोग ।
    आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें ।

     
  6. डॉ॰ मोनिका शर्मा

    मई 15, 2011 at 11:46 पूर्वाह्न

    नमन इस वीर शहीद को…… जन्मदिन की शुभकामनायें स्वीकारें….

     
  7. चला बिहारी ब्लॉगर बनने

    मई 15, 2011 at 9:20 अपराह्न

    शत नमन मेरा तुम्हें!!

     
  8. VICHAAR SHOONYA

    मई 15, 2011 at 9:24 अपराह्न

    शिवम् भाई, मुझे तो शहीद चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु जैसे क्रांतिकारियों से जुडी घटनाओं, इनके जीवन चरित्र इत्यादि को पढना या जानना हमेशा ही अच्छा लगता है, चाहे कितनी बार ही रीपीट क्यों न हो ….. पोस्ट के लिए धन्यवाद.

     
  9. राज भाटिय़ा

    मई 15, 2011 at 9:25 अपराह्न

    भारत माँ के इस सच्चे सपूत सुखदेव को मैर शत शत नमन, यह अग्रेज आज भी नही बदले…हमीं इन के जुल्म भुल गये हे…..
    जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

     
  10. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)

    मई 15, 2011 at 9:53 अपराह्न

    अमर शहीद सुखदेव जी को नमन!
    आपको जन्मदिवस की शुभकामनाएँ!

     
  11. Sunil Kumar

    मई 16, 2011 at 8:06 अपराह्न

    शहीद सुखदेवजी को शत शत नमन….
    आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं !

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: