RSS

दोस्त या दुश्मन – एक माइक्रो पोस्ट

23 फरवरी
एक माइक्रो पोस्ट …
मुझे जैसा ही आदमी … मेरा ही हमनाम …
 
उल्टा सीधा यह चले … मुझे करे बदनाम !
Advertisements
 
20 टिप्पणियाँ

Posted by on फ़रवरी 23, 2011 in बिना श्रेणी

 

20 responses to “दोस्त या दुश्मन – एक माइक्रो पोस्ट

  1. ललित शर्मा

    फ़रवरी 23, 2011 at 5:07 अपराह्न

    ये फ़ोटो किसकी लगा दी शिवम भाई?

     
  2. Udan Tashtari

    फ़रवरी 23, 2011 at 6:53 अपराह्न

    लग तो आप ही रहे हो…

     
  3. देव कुमार झा

    फ़रवरी 23, 2011 at 6:55 अपराह्न

    मुझे जैसा ही आदमी … मेरा ही हमनाम …
    उल्टा सीधा यह चले … मुझे करे बदनाम !

    बोले तो जबरदस्त… कुम्भ के मेले में तो नहीं बिछड़ा?

     
  4. Indranil Bhattacharjee ........."सैल"

    फ़रवरी 23, 2011 at 7:28 अपराह्न

    इसका नाम भी शिवम मिश्र है क्या ?

     
  5. Sunil Kumar

    फ़रवरी 23, 2011 at 7:29 अपराह्न

    हम तो हारे अब आप ही बताइए …

     
  6. Patali-The-Village

    फ़रवरी 23, 2011 at 7:43 अपराह्न

    कुम्भ के मेले में तो नहीं बिछड़ा?

     
  7. चला बिहारी ब्लॉगर बनने

    फ़रवरी 23, 2011 at 9:27 अपराह्न

    अरे ये तो कलकत्ता से भागा हुआ अपराधी है!! आजकल उत्तर प्रदेश के किसी स्थान में छिपा है!!

     
  8. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)

    फ़रवरी 23, 2011 at 9:46 अपराह्न

    सुन्दर अभिव्यक्ति!

     
  9. VICHAAR SHOONYA

    फ़रवरी 23, 2011 at 10:02 अपराह्न

    अजी बदनाम हुए तो क्या नाम न होगा इसलिए इन्हें अपना मित्र ही मानिये.

    नोट : मेरे उपरोक्त विचार आपके लेख को पढ़ कर ही उत्पन्न हुए हैं जिन्हें मैं “तेरा तुझको अर्पण” वाली तर्ज पर यहाँ टिपण्णी रूप में दर्ज कर रहा हूँ. इस टिपण्णी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य नहीं है. आप इसे उधार में दी गयी टिपण्णी समझ कर प्रतिउत्तर में मेरे ब्लॉग पर टिपण्णी करने के लिए बाध्य नहीं हैं.

     
  10. राज भाटिय़ा

    फ़रवरी 23, 2011 at 10:18 अपराह्न

    शिवम भाई ईनाम ज्यादा हे चलो फ़िफ़्टी फ़िफ़्टी कर ले, यह तो आप ही लग रहे हो:)

     
  11. मनोज कुमार

    फ़रवरी 23, 2011 at 10:43 अपराह्न

    रोचक।

     
  12. अजय कुमार झा

    फ़रवरी 23, 2011 at 11:45 अपराह्न

    सुनिए हो , हम तो बराबर चिन्ह गए हैं ..ईनाम का चेक लेकर ही पहुंचिएगा ..बराबर बराबर बंटाएगा माल

     
  13. anshumala

    फ़रवरी 24, 2011 at 12:05 पूर्वाह्न

    इनाम डालर में मिलेगा या रुपये में बदल कर दिया जायेगा का है की आज कल पकडे जाने का डर ज्यादा है ना |

     
  14. Smart Indian - स्मार्ट इंडियन

    फ़रवरी 24, 2011 at 7:46 पूर्वाह्न

    मिश्रा जी, समझ तो हमें भी कुछ नहीं आया परंतु “बुरा भला” “दोस्त या दुश्मन” आदि शब्द युग्मों से एक पुराने गीत की पंक्ति ज़रूर याद आ गयी –
    मानो तो मैं गंगा माँ हूँ न मानो तो बहता पानी…

     
  15. Shah Nawaz

    फ़रवरी 24, 2011 at 8:01 पूर्वाह्न

    बोलो-बोलो कौन है वोह???? 🙂 🙂

     
  16. नीरज गोस्वामी

    फ़रवरी 24, 2011 at 12:41 अपराह्न

    बचके रहना पड़ेगा…

    नीरज

     
  17. महेन्द्र मिश्र

    फ़रवरी 24, 2011 at 1:18 अपराह्न

    हा हा इन्हें तो लालटेन लेकर खोजना पड़ेगा.. वैसै ही मिटटी का तेल नहीं मिल रहा है …नाईस

     
  18. GirishMukul

    फ़रवरी 24, 2011 at 8:42 अपराह्न

    बहुत उम्दा
    बड़े निशानची…

     
  19. abhi

    फ़रवरी 28, 2011 at 9:10 अपराह्न

    अच्छा, तो यहाँ भी ये अपराधी भाई जी आ गए हैं 🙂 🙂
    मैं भी पहचानता हूँ…बोलिए कितना हिस्सा मेरा रहेगा 🙂

     
  20. Mohd. Tauqeed Khan

    फ़रवरी 28, 2011 at 11:19 अपराह्न

    Baqi hai Dil mein Shekh Ke Hasrat Gunah Ki
    Kala Karega Munh Bhi Jo Darhi Siyah Ki

    sab dil ke arman pure karne ke bahane hai khud hi kaale karname karke kah doge mere jaisa hi koi hai mujhe badanm kar raha hai

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: