RSS

ब्लोगिंग का रजनीकांत … मैनपुरी में

18 जनवरी

आज की मेरी यह पोस्ट हकीकत और मेरी कल्पना का एक मिला जुला रूप है … आप सब से विनती है इस को उसी रूप में लें !
खुशदीप भाई को बहुत बहुत धन्यवाद … इस पोस्ट का आईडिया उनकी पोस्ट से ही आया !
———————————————————————————————————-
ब्लोगिंग का रजनीकान्त – महफूज़ अली

लीजिये साहब देख लीजिये … क्या होगा अगर के ब्लोगिंग के रजनीकांत … मैनपुरी आने का विचार बनाये तो ... 
सब से पहले तो लखनऊ में हल्ला होगा !
अब जब बहन जी तक खबर जाएगी तो चाचा मुलायम को भी भनक लगनी ही है
मैनपुरी का मिडिया कैसे पीछे रहता
प्रशासन भी तैयार
प्रशासन भी तैयार

प्रशासन भी तैयार

और हम भी तैयार
लो जी आ गए ब्लोगिंग के रजनीकान्त अपने उड़नखटोले में  
सुरक्षा कर्मी चौकस है
सब से पहले मोबाइल बंद किये जाएँ
थक गए यार … गर्दन अकड गई सफ़र में
२ बोतल पानी पिया तब जा कर अब थोडा आराम मिला
हम थके हुए है … इनको फोटो की पड़ी है
मुलाकात खत्म … लौटने से पहले एक और फोटो
तो साहब यह थी कहानी हमारी इस छोटी सी मुलाकात की ब्लोगिंग के रजनीकांत – महफूज़ अली साहब से ! हम लोग जितनी देर भी साथ रहे एक पल भी यह नहीं लगा कि जीवन में पहली बार मिल रहे हो ! बहुत से मुद्दों पर खुल कर चर्चा हुयी … जिन में रोज़ मर्रा के मुद्दे भी थे और ब्लोगिंग से जुड़े हुए मुद्दे भी ! कुल मिला कर मुलाकात एकदम झकास थी बोले तो एकदम रजनीकांत इस्टाइल !!!
अब इंतज़ार है अगली मुलाकात का …


Advertisements
 
21 टिप्पणियाँ

Posted by on जनवरी 18, 2011 in बिना श्रेणी

 

21 responses to “ब्लोगिंग का रजनीकांत … मैनपुरी में

  1. GirishMukul

    जनवरी 19, 2011 at 12:01 पूर्वाह्न

    वाह शिवम जी पकड़ ही लिया

     
  2. GirishMukul

    जनवरी 19, 2011 at 12:02 पूर्वाह्न

    अभी फ़ोन लगाता हूं

     
  3. चला बिहारी ब्लॉगर बनने

    जनवरी 19, 2011 at 12:12 पूर्वाह्न

    रश्क हो रहा है हमको!

     
  4. मनोज कुमार

    जनवरी 19, 2011 at 12:15 पूर्वाह्न

    उनसे जब फोन पर पहली बार बात हो रही थी तो लगा कि बरसों से हम एक दूसरे को जानते हैं। और हममें से कोई फोन को बंद करने का नाम ही नहीं ले रहा था।
    आभार इस प्रस्तुति के लिए।

     
  5. शिवम् मिश्रा

    जनवरी 19, 2011 at 12:43 पूर्वाह्न

    सलिल भाई, सब्र का फल हमेशा ही मीठा होता है ! 😉

     
  6. खुशदीप सहगल

    जनवरी 19, 2011 at 1:15 पूर्वाह्न

    @शिवम भाई,
    मैंने अपनी पोस्ट में झूठ तो नहीं लिखा था कि महफूज़ मासूम शो-ऑफ में बिल्कुल भी यकीन नहीं रखता…

    जय हिंद…

     
  7. बी एस पाबला

    जनवरी 19, 2011 at 2:13 पूर्वाह्न

    इस मुलाकात में हम भी शामिल हुए थे लाइव
    पहले तो विश्वास ही नहीं हुआ कि आप ने यकायक छापा कैसे डाल दिया है 🙂

     
  8. अविनाश वाचस्पति

    जनवरी 19, 2011 at 5:26 पूर्वाह्न

    कल्‍पना की अच्‍छी मेज सजाई है। महफूज सदा महफूज रहेंगे। पर अब सोच रहे हैं कि हम भी कल्‍पना के साथ मिलकर कोई संगम कर ही डालें पर संग अलग हो गए और गम बाकी रह गए तो। वैसे महफूज भाई की ट्रेन छूट जाती है, लगता है इस बार प्‍लेन मेरा मतलब हेलीकॉप्‍टर से मैनपुरी पहुंचे होंगे। हैलीकोप्‍टर का फोटो भी दिखलाते हैं और आज सुबह जयपुर, दिल्‍ली में भूकंप भी आया है। जरूर इस मिलन का ही प्रताप होगा।

     
  9. अविनाश वाचस्पति

    जनवरी 19, 2011 at 5:27 पूर्वाह्न

    दिखलाते हैं नहीं
    दिखलाते

    संशोधित करके पढ़ने का कष्‍ट कीजिएगा।

     
  10. Asha

    जनवरी 19, 2011 at 6:56 पूर्वाह्न

    ब्लॉग वार्ता ४ पर फोटो देखे रजनीकांत जी महफूज जी के| बधाई

    आशा

     
  11. संगीता पुरी

    जनवरी 19, 2011 at 8:43 पूर्वाह्न

    सिर्फ कल्‍पना ही नहीं , हकीकत भी है जानकर खुशी हुई .. शुभकामनाएं !!

     
  12. Shah Nawaz

    जनवरी 19, 2011 at 8:49 पूर्वाह्न

    अरे वाह!!! क्या ब्लोगिंग प्रिंस का मैनपुरी (खयाली) दौरा तो ज़बरदस्त रहा शिवम् भय्या…

    अपना भी एक दौरा हुआ था मैनपुरी का 1997-98 में… और कुछ ऐसा ही हुआ था… इतना हंगामा हुआ था की 6 लोगो की जान चली गई थी और हमारी जान सांसों में अटकी हुई थी… वहां लगने वाले एक मैले में फिल्म स्टार नाईट का आयोजन किया था हमने… जिसमें विनोद राठौर और सोनाली कुलकर्णी जैसे स्टार के साथ भी बदतमीजी की गई थी. बहुत खतरनाक अनुभव था… कभी विस्तार से लिखूंगा इस पर… 🙂

     
  13. ललित शर्मा

    जनवरी 19, 2011 at 9:48 पूर्वाह्न

    हा हा हा बहुत बढिया पोस्ट जमाई है।
    रजनीकांत से मिल कर मोगेम्बो खुश हुआ।

     
  14. rashmi ravija

    जनवरी 19, 2011 at 12:46 अपराह्न

    बहुत बढ़िया अंदाज़ था…मुलाकात विवरण का

     
  15. किलर झपाटा

    जनवरी 19, 2011 at 6:28 अपराह्न

    ओय ये हमारा पट्ठा महफ़ूज़ आजकल ब्लॉलिंग का हवा-हवाई रजनीकांत?
    हा हा मजा आ गया भाई पोस्ट में।

     
  16. अजय कुमार झा

    जनवरी 19, 2011 at 6:44 अपराह्न

    हा हा हा …अन्ना ..माईंड इट ..बहुत बढिया जी एकदम झक्कास मुलाकात । बीच में रजनीकांत की कॉल जब हमने …आपके फ़ुनवा पर रिसीव की तो जोर का झटका हम भी खा गए थे । जज साहब ने आवाज़ न लगाई होती तो और भी बतिया पाते , मगर फ़िर निकलना पडा अचानक , जमाए रहिए

     
  17. देव कुमार झा

    जनवरी 19, 2011 at 7:57 अपराह्न

    गजब पोस्ट डाली है भैया… पहले तो हम कनफुजिया गए… फिर समझे की असली माजरा क्या है…
    रजनी कान्त को देख कर मन बहुत खुश हुआ…

     
  18. H P SHARMA

    जनवरी 19, 2011 at 9:09 अपराह्न

    मह्फूज़ भाई आजकल दोस्तो की पोस्टो मे ही नज़र आते है.
    उन्हे पढे तो जैसे एक जमाना बीत गया है

     
  19. राज भाटिय़ा

    जनवरी 19, 2011 at 9:40 अपराह्न

    मस्त जी, मजा आ गया, धन्यवाद

     
  20. Vivek Rastogi

    जनवरी 19, 2011 at 10:43 अपराह्न

    वाह जी वाह बहुत सही, वैसे हरि भाई सही कह रहे हैं।

     
  21. Rohit Jain

    जनवरी 20, 2011 at 12:15 पूर्वाह्न

    अरे भाई हम भी तो मैनपुरी में ही थे … हम से भी तो परिचय करवा दिया होता !

    वैसे पोस्ट गजब बनाई है … शिवम् !

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: