RSS

इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों पर सरकार रखेगी नजर

13 जनवरी
जो लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं, उन पर सरकार कड़ी निगाह रखने की योजना रही है। गृह मंत्रालय और खुफिया ब्यूरो [आइबी] ने दूरसंचार विभाग [डॉट] के माध्यम से इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया [आइएसपीएआइ] को इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं।
इंटरनेट सेवा मुहैया कराने वालों को ऐसी आसान तकनीकी राह तलाशने को कहा गया है, जिसके द्वारा किसी खास इंटरनेट प्रोटोकॉल [आइपी] एड्रेस का तत्काल पता लगा कर, यूजर द्वारा लॉग ऑन करते ही उसे चिह्नित किया जा सके।
इस आदेश में खास बात यह है कि सरकार अब देश में इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले हर भारतीय पर नजर रखना चाहती है। भले ही उसका कभी आपराधिक या संदिग्ध रिकॉर्ड न रहा हो।
खुफिया ब्यूरो ने दूरसंचार और सूचना तकनीक विभाग को मोबाइल सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियों तथा नेशनल इनफरमेटिक्स सेंटर [एनआइसी] के साथ मिल कर ऐसी व्यवस्था विकसित करने को कहा है, जिसके द्वारा किसी भी व्यक्ति द्वारा इंटरनेट का इस्तेमाल करने की पल-पल की खबर रहे।
सरकार का विचार ऐसी तकनीक विकसित करने का है, जिसमें यूजर को इंटरनेट का प्रयोग करने से पहले एक ऑनलाइन आइडेंटीफिकेशन या पासवर्ड का इस्तेमाल आवश्यक हो। फिर भले ही उसकी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी कोई भी हो।
आइएसपीएआइ के अध्यक्ष राजेश छारिया के अनुसार, ‘वे चाहते हैं कि हम उन्हें वॉइस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल, बैंकिंग समेत ई-कॉमर्स लेन-देन और हवाई तथा रेल टिकटों की खरीद की जानकारी भी दें।’
आपका डाटा नहीं होगा सुरक्षित 
विशेषज्ञों के अनुसार यदि सरकार की चली, तो नागरिकों का कोई भी ऑनलाइन डाटा सुरक्षित नहीं रहेगा। इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडरों जैसी निजी और व्यावसायिक संस्थाओं के पास लोगों की सारी जानकारी पहुंच जाएगी। वे अपने लाभ के लिए इनका इस्तेमाल कर सकते हैं।
 
नागरिक अधिकारों को हनन
सूत्रों का कहना है कि सरकार का नया कदम संविधान के अचुच्छेद 19 का उल्लंघन है। जिसमें नागरिकों को अभिव्यक्ति और विचारों की आजादी गई है। साथ ही इससे अनुच्छेद 21 और सूचना तकनीक कानून की धारा 69 का भी हनन होता है, जिसमें नागरिकों की निजता को सुरक्षित रखने की बात कही गई है।
सुप्रीम कोर्ट के साइबर कानून विशेषज्ञ अधिवक्ता विवेक सूद के अनुसार, ‘यह सुझाव कुछ ऐसा है, जैसे आपके हर बेडरूम में सीसीटीवी कैमरा लगाने को कह दिया जाए। यह असंवैधानिक है।’  
(मिड डे)
Advertisements
 
9 टिप्पणियाँ

Posted by on जनवरी 13, 2011 in बिना श्रेणी

 

9 responses to “इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों पर सरकार रखेगी नजर

  1. anshumala

    जनवरी 13, 2011 at 4:10 अपराह्न

    हम कर क्या सकते है इसके खिलाफ |

     
  2. राज भाटिय़ा

    जनवरी 13, 2011 at 4:22 अपराह्न

    हम आवाज उठा सकते हे इस के खिलाफ़, वेसे इस सरकार पर कोन नजर रखता हे जो हर तरफ़ से हर प्रकार के घटोलो से सजी हे?

     
  3. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’

    जनवरी 13, 2011 at 5:12 अपराह्न

    तबतो सभी लोगों को सजग रहना पडेगा।

    ———
    बोलने वाले पत्‍थर।
    सांपों को दुध पिलाना पुण्‍य का काम है?

     
  4. Sonal Rastogi

    जनवरी 13, 2011 at 5:19 अपराह्न

    hum bhi lokpriya ho jaayenge

     
  5. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

    जनवरी 13, 2011 at 10:44 अपराह्न

    मन चंगा तो कठौती में गंगा!
    हमें इससे कोई हानि नहीं होगी!
    क्योंकि हम तो देशभक्त हैं!

     
  6. चला बिहारी ब्लॉगर बनने

    जनवरी 13, 2011 at 11:58 अपराह्न

    होशियार! Big brother is watching you!!

     
  7. चैतन्य शर्मा

    जनवरी 14, 2011 at 6:35 पूर्वाह्न

    सक्रांति …लोहड़ी और पोंगल….हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें……सादर

     
  8. लाल और बवाल (जुगलबन्दी)

    जनवरी 15, 2011 at 6:00 पूर्वाह्न

    इसकी भी काट निकल आएगी भैया ना घबराएँ।

     
  9. Asha

    जनवरी 15, 2011 at 7:22 पूर्वाह्न

    संक्रांति पर्व पर शुभकामनाएं |
    आशा

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: