RSS

अभी नहीं मिलेगी अनचाही कॉलों से राहत!

29 दिसम्बर
नए साल में अनचाही कॉलों से निजात मिलने की आस लगाए बैठे मोबाइल ग्राहकों को निराशा हो सकती है। माना जा रहा है कि फिलहाल टेलीकॉम ऑपरेटर इसके लिए तैयार नहीं हैं। वजह यह है कि टेलीमार्केटिंग कॉलों को रोकने के लिए जिस जरूरी ढांचे की जरूरत है, उसे तैयार करने में कंपनियों को और समय लगेगा।
सुरक्षा चिंताओं को देखते हुए इसके लिए उन्होंने सरकार से चार महीने का समय भी मांगा है। हालांकि अब नई तारीख एक फरवरी उभरकर आ रही है। दूरसंचार नियामक ट्राई द्वारा इस तरह की कॉलों को बंद करने की समयसीमा पहली जनवरी 2011 तय की गई है।
ट्राई ने एक दिसंबर, 2010 को अनचाही टेलीमार्केटिंग कॉलों और एसएमएस पर दिशानिर्देश जारी किए थे। इन दिशानिर्देशों को अगले साल की शुरुआत से लागू किया जाना था। एसोसिएशन ऑफ यूनिफाइड सर्विस प्रोवाइडर्स ऑफ इंडिया [ऑस्पी] के महासचिव एससी. खन्ना ने कहा कि इस बात की संभावना कम ही है कि ऑपरेटर एक जनवरी की समयसीमा को पूरा कर पाएंगे। उन्हें ऐसी कॉलों को नियंत्रित करने को लेकर ढांचा खड़ा करने के लिए और समय की जरूरत है। इससे पहले ट्राई के दिशानिर्देशों में कहा गया था कि नियमों का उल्लंघन करने पर कंपनियों पर 2.50 लाख रुपये का भारी जुर्माना लगाया जाएगा। जिस भी कंपनी के खिलाफ लगातार शिकायतें मिलेंगी, उन्हें ब्लॉक कर दिया जाएगा। टेलीमार्केटिंग कंपनियों को ’70’ से शुरू होने वाला अलग फोन नंबर दिया जाएगा। ऐसे में ग्राहक उनकी पहचान कर सकेंगे और उनके पास विकल्प होगा कि वे चाहें तो टेलीमार्केटिंग कंपनियों की कॉल न उठाएं।
ट्राई ने टेलीमार्केटिंग कॉलों के लिए सात श्रेणियों की पहचान की है। इनमें बैंकिंग और वित्तीय उत्पाद, रीयल एस्टेट, शिक्षा, स्वास्थ्य, उपभोक्ता सामान और वाहन, संचार एवं मनोरंजन व पर्यटन और मौजमस्ती के लिए पर्यटन शामिल हैं।
Advertisements
 
4 टिप्पणियाँ

Posted by on दिसम्बर 29, 2010 in बिना श्रेणी

 

4 responses to “अभी नहीं मिलेगी अनचाही कॉलों से राहत!

  1. राज भाटिय़ा

    दिसम्बर 29, 2010 at 2:04 पूर्वाह्न

    सीधा साधा कानून बना दो भाई जो ऎसी काल करे, उस की शिकायत करने वाले को वो कम्प्नी कम से कम दस हजार रुपये का जुर्माना अदा करे, ओर मोबाईल पर ऎसी काल करने पर २० हजार जुर्माना देना होगा, फ़िर देखो कोन माई का लाल करता हे ऎसी काल, पुरे युरोप मे ऎसा ही कानून हे.
    आप भी जुडे ओर साथियो को भी जोडे…
    http://blogparivaar.blogspot.com/

     
  2. सतीश सक्सेना

    दिसम्बर 29, 2010 at 9:10 पूर्वाह्न

    बहुत बढ़िया आवश्यक लेख लिखा है शिवम् भाई !
    राज भाटिया ने सही सलाह दी है , मगर लागू कैसे हो ??
    शुभकामनायें नए साल की …

     
  3. चला बिहारी ब्लॉगर बनने

    दिसम्बर 29, 2010 at 8:24 अपराह्न

    साल के आख़िर में भी बुरी ख़बर सुना दी आपने… वैसे भाटिया साहब की सलाह का कोई फ़ायदा भी नहीं.. देश में कानूनों की कमी नहीं, आवश्यकता है क़ानून को लागू करने की, कड़ाई से!! जिस दिन वो हो गया, सब ठीक हो जाएगा, चार महीनों में नहीं, चार मिनट में!!

     
  4. anshumala

    दिसम्बर 29, 2010 at 8:45 अपराह्न

    छोडिये कानून को मेरी मानिये जब कोई लोन के लिए फोन आये तो कहिये की हा जी लोन चाहिए सास का मर्डर करने के लिए सुपारी देनी है मिलेगा क्या , गाड़ी चाहिए जी क्रेडिट कार्ड भी चाहिए बस जेल से निकने दीजिये सब लूँगा | बस ऐसी ही दो चार को जवाब गिजिये आप को काल आने बंद हो जायेंगे | :)))

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: