RSS

सर्दियों में सावधानी रखें, बीमारी से बचें

10 दिसम्बर
आम तौर पर सर्दियों के मौसम को स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। इसके बावजूद इस मौसम में बीमारियां होती है। कुछ सावधानियां बरत कर इनसे बचा जा सकता है :-
[सर्दी-जुकाम] : नाक बहना, गले में चुभन, खांसी और बुखार की समस्या इस मौसम में ज्यादा होती है। इनसे बचने के लिए ऊनी कपड़े पहनें। गले की खिचखिच से बचने के लिए गर्म पेय पदार्थ लें। हर्बल चाय, सूप और हल्का गुनगुना पानी इस दृष्टि से सर्वथा उपयोगी हैं।
[डायबिटीज] : इस मौसम में यह मर्ज अनियत्रित हो सकता है क्योंकि भूख अधिक लगती है। इस रोग को नियत्रित रखने के लिए ब्लड शुगर जाच कराएं।
[ब्लडप्रेशर व हृदय रोग] : सर्दियों में हाई ब्लडप्रेशर की शिकायत कुछ ज्यादा होती है क्योंकि सर्दियों में धमनिया सिकुड़ती है और कैलोरी की खपत कम होती है। अपने ब्लड प्रेशर, ईसीजी की जाच अवश्य कराएं।
[अर्थराइटिस] : इस मर्ज के पीड़ितों को इस मौसम में जोड़ों में दर्द बढ़ जाता है और सूजन हो जाती है। इससे बचने के लिए योग व व्यायाम करें। सुबह सैर करें। फिजियोथेरैपिस्ट की सलाह से जोड़ों से सबधित कुछ विशेष प्रकार की कसरत करें।
[स्किन एलर्जी] : इस मौसम में इसकी शिकायत सबसे अधिक होती है। त्वचा के रूखे होने से त्वचा पर सक्रमण हो सकता है। इससे बचने के लिए मेडीकेटेड साबुन का इस्तेमाल करें। सरसों के तेल से मालिश करें।
Advertisements
 
10 टिप्पणियाँ

Posted by on दिसम्बर 10, 2010 in बिना श्रेणी

 

10 responses to “सर्दियों में सावधानी रखें, बीमारी से बचें

  1. चला बिहारी ब्लॉगर बनने

    दिसम्बर 10, 2010 at 8:12 अपराह्न

    जो मौसम जितना प्यारा होता है उसका असर कभी कभी उतना ही डरावना होता है.. जाड़े की इन बीमारियों से सावधानी रखनी ही चाहिये! अच्छी सलाह!!

     
  2. महेन्द्र मिश्र

    दिसम्बर 10, 2010 at 8:37 अपराह्न

    बहुत बढ़िया जानकारी दी है शिवम् जी ….इस मौसम में सजग रहना जरुरी है …

     
  3. सतीश सक्सेना

    दिसम्बर 10, 2010 at 8:42 अपराह्न

    थैंक्स शिवम् !
    यह डाक्टरी बहुतों के काम आएगी बस डाक्टर लोग नाराज हो जायेंगे ! शुभकामनायें

     
  4. anshumala

    दिसम्बर 10, 2010 at 10:08 अपराह्न

    यहाँ मुंबई में तो सर्दी नहीं पड़ती पर मुझे लगता है की दिसंबर में यहाँ भी सर्दी जुकाम से पीडितो की संख्या अच्छी खासी होती है | ऊनी कपडे तो नहीं पहन सकते पर बाकि उपाए आजमाए जा सकते है, धन्यवाद |

     
  5. राज भाटिय़ा

    दिसम्बर 10, 2010 at 11:31 अपराह्न

    हमारे यहां तो -२५ तक जाता हे टेमप्रेचर जी, इस लिये हमे इस से भी ज्यादा देख भाल करनी पडती हे, धन्यवाद नेक सलाह के लिये

     
  6. ZEAL

    दिसम्बर 11, 2010 at 7:44 पूर्वाह्न

    Useful and informative post -thanks.

     
  7. अजय कुमार झा

    दिसम्बर 11, 2010 at 8:17 पूर्वाह्न

    बहुत ही काम की जानकारी दी आपने शिवम भाई । आभार

     
  8. Indranil Bhattacharjee ........."सैल"

    दिसम्बर 11, 2010 at 8:58 पूर्वाह्न

    जानकारी बढ़िया है ! पर क्या करें, यहाँ तापमान – 10 से – 30 तक रहता है और कभी कभी – 40 से नीचे चला जाता है …

     
  9. एस.एम.मासूम

    दिसम्बर 11, 2010 at 10:10 पूर्वाह्न

    सरसों के तेल से मालिश करें.

    सभी मशविरे बढ़िया है ख़ास तौर पे ये वाला जिसकी अहमियत लोग भूलते जा रहे हैं..

     
  10. abhi

    दिसम्बर 11, 2010 at 11:27 पूर्वाह्न

    ओह तो यहाँ स्वास्थ सलाह भी मिलती है…बहुत अच्छा भैया 🙂
    वैसे जारे का मौसम हसीन होता है 🙂

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: