RSS

अग्निपक्षी अमिताभ – कल भी और आज भी !

11 अक्टूबर


मादाम तुसाद के लंदन स्थित संग्रहालय में अमिताभ बच्चन का मोम का पुतला मौजूद है। इस पुतले को सुरक्षित रखने के लिए विशेष तापमान की जरूरत होती है। मोम के पुतले तो सुरक्षित रखे जा सकते हैं, लेकिन जिंदगी की तीखी और कड़ी धूप में हर तरह के पुतले पिघल जाते हैं। फिर भी हमारे साथ सभी मनुष्यों की तरह हाड़-मांस का बना एक ऐसा चलता-फिरता पुतला है, जो कई बार टूटता, गिरता, बिखरता और पिघलता दिखाई दिया ऐसा लगा कि अब इस पुतले को नहीं बचाया जा सकता। आलोचकों ने श्रद्वांजलियां भी लिख डालीं, लेकिन एक अंतराल के बाद अपनी ही जीवनी शक्ति से यह पुतला अधिक ऊर्जा के साथ उठ खड़ा हुआ। पहले से ज्यादा वेगवान और ताकतवर नजर आया। हम जिस पुतले की बात कर रहे हैं, वे हम सभी के चहेते अमिताभ बच्चन हैं, जो सिर्फ अपनी इच्छा शक्ति के दम पर अपने नाम को चरितार्थ कर रहे हैं। उम्र के साथ उनकी ऊर्जा बढ़ती जा रही है। हम चाहेंगे कि वे यों ही बढ़ते, दमकते और चमकते रहें।
[तीन चित्रात्मक प्रतीक]
पिछले साल लगभग इसी समय ही उनका नया शो बिग बॉस आरंभ हुआ था । इसके विज्ञापन में उनकी तीन तस्वीरों की होर्डिग पूरे देश में लगी थी। एक तस्वीर में वे कांच में बंद नाचती गुड़िया के सामने बैठे हैं। दूसरी तस्वीर में उनके सामने फिश बॉल में तैरती सोनमछलियां हैं और तीसरी तस्वीर में एक गिरगिट है। तीनों ही तस्वीरों में अमिताभ बच्चन सोचने की मुद्रा में कैमरे में देख रहे हैं। इन तस्वीरों के भाव और बिंब बिग बॉस के प्रतियोगियों के निमित्त हैं, लेकिन प्रतीकात्मक रूप में ये स्वयं अमिताभ बच्चन पर भी लागू होते हैं। पहली तस्वीर की कांच की गुड़िया की तरह ही चौबीसों घंटे दुनिया की नजर में रहते हुए भी वे अपना स्वाभाविक संतुलन नहीं खोते हैं। अमिताभ बच्चन ने अपनी प्रसिद्धि को हमेशा प्रशंसकों के प्रेम और आशीर्वाद के रूप में लिया। दूसरी तस्वीर की सोनमछलियों की तरह अमिताभ बच्चन को भी अब प्राकृतिक वातावरण से अलग विशेष माहौल में जीना पड़ता है। फिर भी गौर करें कि उनकी संवेदना और स्पंदन में कोई कमी नहीं आई है। इसकी बानगी उनके ब्लॉग पर व्यक्त हो रहे विचार हैं। तीसरी तस्वीर गिरगिट की है, जो सकारात्मक रूप में लें तो हर अभिनेता का स्वभाव होता है। हमारी अपेक्षा रहती है कि हर चरित्र के साथ उसका रंग और रूप बदले। अपने चालीस सालों के कॅरिअर में अमिताभ बच्चन ने अनगिनत चरित्रों को धारण करने के बावजूद अपनी वैयक्तिकता बरकरार रखी है। प्रकारांतर से तीनों विज्ञापन अमिताभ बच्चन के बारे में भी बताते हैं।

और इस साल आज से उनके प्रसिद शो कौन बनेगा करोडपति का चौथा संस्करण शुरू होने जा रहा है जिस का इंतज़ार पूरे भारत को है | शो के प्रोमो के हिसाब से अमिताभ भी पूरी तरह से तैयार दिखते है अपने फैन्स को रिझाने के लिए !

[पारिवारिक मूल्यों के पक्षधर]
हिंदी के कवि और गद्यकार हरिवंश राय बच्चन के मध्यवर्गीय परिवार में पले-बढ़े और भारतीय संस्कारों में समृद्ध अमिताभ बच्चन ने संयुक्त परिवार के मूल्यों को अपने व्यवहार से स्थापित किया। उन्होंने माता-पिता को अपने साथ रखा और अब उनके ख्यातिलब्ध बेटे-बहू उनके साथ रहते हैं। पिछले दिनों ऐश्वर्या राय बच्चन और अभिषेक मशहूर टीवी होस्ट ओपरा विनफ्रे के मेहमान थे। उस शो में दोनों का परिचय देते हुए ओपरा ने जोर देकर बताया और दो बार दोहराया कि दोनों अपने माता-पिता के साथ रहते हैं। भारतीय संदर्भ में यह मामूली और साधारण बात लग सकती है, लेकिन पश्चिम के पूंजीवादी समाज में बिखर और टूट रहे परिवारों के बीच जब किसी भारतीय सेलिब्रिटी के संयुक्त परिवार में साथ रहने का उदाहरण सामने आता है तो उसका प्रभाव व्यापक और दूरगामी होता है। अमिताभ बच्चन ने नितांत वैयक्तिक छवि के लिए छटपटा रहे माहौल में आदर्श बेटे, पति और पिता की भारतीय छवि को मजबूत किया है। पिता की कृति और कृत्यों के आगे खुद को छोटा और तुच्छ बना कर वे अपने प्रशंसकों की निगाह में अधिक बड़े और महत्वपूर्ण बन जाते हैं।
[अप्रतिम इच्छाशक्ति के धनी]

है कुछ बात उनमें तभी तो अवसरों और स्थितियों से ठुकराए जाने के बाद मटियामेट होने की जगह पौराणिक अग्निपक्षी की तरह वे फिर से उठ खड़े होते हैं। सात हिंदुस्तानी जैसी गैरपारंपरिक और असामान्य फिल्म से शुरूआत करने और उसके बाद भी विभिन्न बैनरों, निर्माताओं और निर्देशकों द्वारा तिरस्कृत, अपमानित और नजरअंदाज किए जाने के बावजूद अमिताभ बच्चन ने मेनस्ट्रीम फिल्मों में अपनी जगह बनायी। बाक्स आफिस कलेक्शन और दर्शकों के बीच अप्रतिम लोकप्रियता की वजह से उन्हें ‘वन मैन इंडस्ट्री’ का खिताब दिया गया। याद करें कि हृषीकेष मुखर्जी और कुंदन कुमार की फिल्मों की चंद रीलों की शूटिंग के बाद फिल्म से हटा दिए जाने पर भी उन्होंने आत्मबल नहीं खोया। वे अपनी इच्छाशक्ति के दम पर टिके रहे। कुली की दुर्घटना से आए व्यवधान, खुदा गवाह के बाद फिल्मी करिअर में आए उतार, एबीसीएल के क्रिएटिव एडवेंचर से हुए आर्थिक नुकसान, राजनीति के संक्षिप्त प्रवास में लगे आक्षेप और बेटे की शादी के समय हुए सामाजिक और मीडिया बहिष्कार के बावजूद अमिताभ बच्चन आज भी एक्टिव हैं। वे आक्षेपों और आरोपों से बेदाग निकले। उन्होंने कॅरिअर की हर फिसलन को अगली छलांग और ऊंचाई की पींग के रूप में इस्तेमाल किया। अमिताभ बच्चन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि वे यश चोपड़ा से
फिल्म मांगने गए थे और तब आदित्य चोपड़ा ने उन्हें मोहब्बतें फिल्म दी थी। कौन बनेगा करोड़पति होस्ट करने के उनके ऐतिहासिक फैसले से सभी परिचित हैं। वे इसी शो से ऐसे मापदंड बन गए कि शाहरुख खान अपनी अदम्य लोकप्रियता के बावजूद स्टार प्लस के इसी शो की तृतीय कड़ी के लिए वह टीआरपी नहीं ला सके।
सब कुछ छोड़कर आगामी फिल्मों में उनके चरित्र की विविधता पर ही नजर डालें तो पता चल जाएगा कि हिंदी फिल्मों का यह अद्वितीय अभिनेता जीवन के उत्तरकाल में ऐसी लकीर खींचता जा रहा है, जिसे पार करना भविष्य के अभिनेताओं के लिए बड़ी चुनौती होगी। वे अलादीन में जिन्न बने हैं तो पा में बारह वर्ष के बालक की भूमिका निभा रहे हैं। कुणाल में प्रियदर्शी अशोक की भूमिका निभाएंगे तो रण में मीडिया टायकून के रूप में नजर आएंगे। तीन पत्ती और बुद्धं शरणं गच्छामि में वे अभिनय को नया विस्तार देंगे।
[धर्म पर अटूट है विश्वास]
अभिनय की अमित आभा से संपन्न अमिताभ बच्चन तुलसीदास कृत रामचरितमानस के सुंदरकांड और गीता का नियमित पाठ करते हैं। धार्मिकता के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने एक बार कहा था, ”हमें नहीं मालूम कि हमारे साथ कुछ खास क्यों घटता है और हमें यह भी नहीं मालूम कि हम कैसे उस घटना पर विजय पा लेते हैं। मैं जैसी परिस्थितियों से गुजरा हूं और उनमें मेरे शरीर ने जिस ढंग से रिएक्ट किया है, वह अचरज का विषय है। निस्संदेह इस रहस्य ने मुझे धार्मिक बना दिया है।” हमें याद है कि पिछले साल जन्मदिन की पूर्वसंध्या को उनकी तबियत बिगड़ी थी और अपने जन्मदिन के दिन वे अस्पताल में थे। यह उनकी विल पॉवर ही है कि वे असाध्य बीमारियों को पछाड़ कर हमारे बीच आ जाते हैं। ऊंचे कद के अभिनेता अमिताभ बच्चन चलते समय लंबे डग भरते हैं। हम यही चाहेंगे कि वे सफलता और लोकप्रियता की अधिकतम दूरी और ऊंचाई नाप सकें।
– अजय ब्रह्मंत्मज
————————————————————————————————-

सभी मैनपुरी वासीयों की ओर से श्री अमिताभ बच्चन को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाईयां और शुभकामनाएं !

Advertisements
 
5 टिप्पणियाँ

Posted by on अक्टूबर 11, 2010 in बिना श्रेणी

 

5 responses to “अग्निपक्षी अमिताभ – कल भी और आज भी !

  1. lokendra singh rajput

    अक्टूबर 11, 2010 at 1:23 पूर्वाह्न

    हमारी ओर से भी सदी के महानायक अमिताभ बच्चन को शुभकामनाएं…… और आपको एक समसामयिक व बेहतर लेख के लिए बधाई।

     
  2. ललित शर्मा

    अक्टूबर 11, 2010 at 7:13 पूर्वाह्न

    अमिताभ बच्चन की फ़िल्में मुझे पसंद आती हैं।
    एक परिपक्व नायक है फ़िल्मों है।
    उन्हे शुभकामनाएं
    और आपका आभार

     
  3. Indranil Bhattacharjee ........."सैल"

    अक्टूबर 11, 2010 at 7:58 पूर्वाह्न

    अमिताभ बच्चन मेरा भी पसंदीदा अभिनेता हैं …. उनकी अदाएं निराली हैं !

     
  4. चला बिहारी ब्लॉगर बनने

    अक्टूबर 11, 2010 at 9:02 पूर्वाह्न

    हमको इस ब्लॉग जगत में लाने वाले वही हैं…ईश्वर उनको स्वास्थ्य प्रदान करे!

     
  5. anshumala

    अक्टूबर 11, 2010 at 11:14 पूर्वाह्न

    बहुत ही अच्छा आलेख और बहुत ही अच्छा विशलेषण | अमिताभ जी ने अपने कैरियर की शुरुआत भी काफी संघर्सपूर्ण थी और जब उन्होंने अपनी दूसरी पारी शुरू की तो वो भी पर दोनों बार उन्हीने हार नहीं मानी और जीत उनकी हुई | पर अब मुझे वो अपने फ़िल्मी चरित्रों से ज्यादा जुड़े दिखते है ज्यादा स्वाभाविक लगते है पहले के मुकाबले | करोडपति में भी जब वो दर्शको से जुड़ते है बात करते है तो वो स्क्रिप्टेड नहीं लगता है नैचुरल लगता है | वैसे ओपरा के शो में जब विवाह के पहले ऐश्वर्या गई थी तब भी उन्होंने यही बात दो बार कही थी की ऐश्वर्या अभी भी अपने माँ बाप के साथ उनके घर में रहती है | उन्हें जन्मदिन पर मेरी तरफ से शुभकामनाए |

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: