RSS

शुक्र है हमारे माननीय "जैसे" भी सही पर "ऐसे" नहीं !!

28 अप्रैल





हमारे माननीय दूसरों से बेहतर हैं! शायद आपको विश्वास न हो क्योंकि आप उन्हें संसद में जोर-जोर से चिल्लाते, झगड़ते देखते हैं। लेकिन दूसरे देशों के सांसदों के व्यवहार को देखकर तो यही कहा जा सकता है कि गनीमत है। हमारे सांसद तो विधेयकों की प्रतियां फाड़ते हैं और सदन की कार्यवाही नहीं चलने देते। लेकिन विदेशी सांसद इनसे कहीं बढ़ कर हैं। जी हां, यूक्रेन की संसद में जो कुछ हुआ, उसके मुकाबले तो हमारे माननीय काफी ‘अनुशासित’ हैं।

मंगलवार को यूक्रेन के बंदरगाह शहर क्रिमिया में रूस की नौसेना को और अगले 25 वर्ष तक रखे जाने के समझौते को लेकर संसद में जो बहस शुरू हुई, वह शब्दों की बौछार से अंडों की बारिश में बदल गई। इसके बाद ‘स्मोक बम’ भी फेंका गया, जिससे पूरा सदन धुएं से भर गया।

हुआ यह कि समझौते के अनुमोदन के लिए जैसे ही संसद में मतदान शुरू हुआ, वैसे ही विपक्षी सदस्यों ने हंगामा आरंभ कर दिया। फिर कुछ सदस्यों ने नाराज होकर स्पीकर को निशाना बनाकर एक स्मोक बम और अंडे फेंके। स्पीकर के अंगरक्षकों ने तुरंत छतरी खोली और उन्होंने शरण ली। इसके बावजूद स्पीकर अपना कोट खराब होने से रोक नहीं सके!

जैसा मंगलवार को हुआ, वैसी ही अनुशासनहीनता यूरोप और एशिया के अन्य देशों की संसद में पहले भी देखी गई है। दक्षिण कोरिया, ताइवान, बोलीविया, तुर्की, यूनान जैसे देशों में ऐसी घटनाएं आम हैं। इसका इतिहास गवाह है।

अब अगर यह कहा जाये कि ‘शुक्र है हमारे माननीयजैसेभी सही परऐसेनहींतो क्या गलत होगा ?? आप ही बताये !!

Advertisements
 
4 टिप्पणियाँ

Posted by on अप्रैल 28, 2010 in बिना श्रेणी

 

4 responses to “शुक्र है हमारे माननीय "जैसे" भी सही पर "ऐसे" नहीं !!

  1. राज भाटिय़ा

    अप्रैल 28, 2010 at 4:15 अपराह्न

    अजी हमारे इस से भी घटिया है

     
  2. शेफाली पाण्डे

    अप्रैल 28, 2010 at 6:14 अपराह्न

    ye to prerna ke srot hain…

     
  3. Indranil Bhattacharjee ........."सैल"

    अप्रैल 29, 2010 at 10:43 पूर्वाह्न

    हमारे संसद में जो दीखते हैं वो तो केवल “tip of the iceberg” हैं ! अंदर ही अंदर ऐसा कोई दुष्कर्म नहीं जो ये न करते हों …

     
  4. sangeeta swarup

    अप्रैल 29, 2010 at 12:28 अपराह्न

    प्रेरणा तो यहीं से मिलती है…..जुताकंद भी तो बुश से ही शुरू हुआ था..

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: