RSS

एक माइक्रो पोस्ट :- मुझे जीने दो !!

23 अप्रैल
मैं ना हिन्दू ना मुसलमान ; मुझे जीने दो !
दोस्ती है मेरा ईमान ; मुझे जीने दो !
कोई एहेसान ना करो मुझ पे तो एहेसान होगा;
बस इतना करो एहेसान , मुझे जीने दो !
ना मैं लेखक ना कवि ; ना बनना मुझे ब्लॉगर महान ;
मुझे जीने दो !!
Advertisements
 
2 टिप्पणियाँ

Posted by on अप्रैल 23, 2010 in बिना श्रेणी

 

2 responses to “एक माइक्रो पोस्ट :- मुझे जीने दो !!

  1. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    अप्रैल 23, 2010 at 10:34 अपराह्न

    ना मैं लेखक ना कवि ; ना बनना मुझे ब्लॉगर महान ;
    मुझे जीने दो !!

    यह सन्देश नही मन्त्र है!

     
  2. राज भाटिय़ा

    अप्रैल 24, 2010 at 12:30 पूर्वाह्न

    हम भी तो यही चाहते है जी

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: