RSS

सत्यम ने पुरे किए सफलता के तीन साल

14 दिसम्बर
इस तोफिक की कीमत क्या है
ज से तीन साल पहले मैनपुरी की जनता को सत्यम न्यूज़ चैनल का दीदार हुआ था.१४ दिसम्बर २००६ की सुबह थी.धुप अभी पकी भी नहीं थी.स्टेशन रोड पर सत्यम के ऑफिस में चहल पहल थी.पूरी मैनपुरी टीवी से चिपकी थी.जबरदस्त दबाव था.११ बजे हवन और पूजन के बाद सत्यम ने काम शुरू कर दिया था.शाम ७ बजे हमारी पहली न्यूज़ फ्लैस हुयी.अपनों को टीवी पर देख कर मैनपुरी की जनता झूम उठी.सड़कों और चोराहा पर भीड़ जमी हुयी थी सत्यम के इजाद से मैनपुरी की जनता बेहद खुश थी.ये सब देख कर मुझे भी ख़ुशी हो रही थी लेकिन डर भी लग रहा था.क्यों की मुझे उम्मीद नहीं थी कि सत्यम को मैनपुरी की जनता इतना सम्मान और मोहब्बत देगी.मुझे इसकी इतनी उम्मीद नहीं थी.लेकिन उस दिन मेने ये ठान लिया की मैनपुरी की जनता को कभी निराश नहीं होने दूंगा.तीन साल के इस सफर में सबसे ज्यादा शुक्रिया डॉ शेखर भदौरिया करना चाहूँगा.सच तो ये है की मेने तो सिर्फ एक सपना देखा था लेकिन डॉ शेखर ने इसे ज़मीन दी थी.इस सपने को हकीकत में तब्दील किया.उनके बारे में फिर कभी विस्तार से लिखूंगा.वे एक प्रोग्रेसिव सोच के इन्सान हैं जो कुछ हट के करना चाहते हैं.मैनपुरी की जनता को उनके इस प्रयास की तारीफ करनी ही चाहिए.मुझे याद है अक्टूबर का महीना था.उस समय में बी ए जी फ़िल्म्स से जुड़ा था.एक प्रोग्राम की शूटिंग के लिए उनके गावं बिछिया गया था.शूटिंग खत्म होने के बाद चलते वक़्त मेरे बड़े भाई के दोस्त नंदू भैया ने मेरे चैनल खोलने के विचार उनके सामने रखा.डॉ शेखर ने उस पर तुरंत हाँ कर दी.उनके साथ काम करने के लिए मेरे दिल ने फोरन हाँ करने को कहा.मैंने ऐसा किया भी.मेरे ज़ेहन में उनकी छवि एक इमानदार और नेक इन्सान की है जो आज भी ज़ेहन में कायम है.
चैनल शुरू हुआ.लोगों ने कहा सत्यम १ महीने बाद बंद हो जायेगा.सत्यम ने एक महीना पूरा किया.फिर लोगों ने कहा ये तीन महीना तक और चलेगा.सत्यम ने तीन माह भी पुरे कर लिया.आज उन चंद लोगों के मुह सत्यम कि तारीफ करते नहीं थकते.जो कल तक इसके बंद होने की भविष्यवाणी करते थे.चैनल सुबोध.अजय.आशीष.आकांक्षा.नेहा.विशाल.चेतन.बोबी.प्रगति.रामपाल और गौरव की महनत से कीर्तमान रचने लगा था.तीन साल में सत्यम जनता के दिल पर छा गया.सत्यम इन तीन सालों में मैनपुरी की जनता के सुख दुःख का साथी बन गया.सत्यम ने सरकार की कल्याणकारी योजनायों की जानकारी दे कर जनता को जागरूक बनाया.युवाओं को एक नयी सोच दी.विकास पत्रकारिता मे सत्यम तीन सालों में रोल मॉडल बन गया.इसकी लोकप्रियता देश से बहार फैलने लगी.सत्यम को मैनपुरी की जनता अपना चैनल मानती है.तकनीकी और संसाधनों की कमी हमेशा सत्यम में बनी रही लेकिन जनता ने हमेसा इसको नज़रंदाज़ ही किया.ये जनता का मेरे उपर अहसान से कम नहीं है.इसी लिए में अक्सर इसे जनता का चैनल कहता हूँ.आपने स्टाफ को भी में यही कहता हूँ कि आप जनता को माँ-बाप मन कर काम करें.मेरे स्टाफ ने ऐसा किया भी.इसके लिए में अपने स्टाफ का भी शुक्रगुज़ार हूँ. सत्यम के प्रसारण को कई बार कुछ लोगों ने रोकने की कोशिश की ये वो लोग थे जो में मैनपुरी को तरक्की करते नहीं देखना चाहते थे.वे नहीं चाहते थे की मैनपुरी की जनता जागरूक बने.लेकिन ऐसे लोग बहुत कम थे.उनके इरादों में खोट थी सो वे सफल नहीं हो सके.सत्यम जनता की आवाज़ को लेकर बढता जा रहा है.मेरे दोस्त शिवम् ने मुझे काफी होसला दिया.प्रोत्साहित किया.जब सत्यम लोकप्रिय होने लगा तो लोगों ने कहा ”आप मैनपुरी में अपना करियर खत्म कर रहे हो”में सुनता रहता…तरह के सवाल अब मेरी दैनिक दिनचर्या का हिस्सा बन चुके हैं. क्या अच्छी पढ़ाई करने वालों को आपने घर में काम नही करना चाहिए? क्या सबसे ज्यादा मेरी जरुरत दिल्ली या बढे शहरों में है ?आई आई एम् सी से पत्रकरिता की डिग्री लेने के बाद क्या बड़े मीडिया हाउस में ही काम करना चाहिए? मैंने कभी इस बात की फरवाह नही की.मैनपुरी से कई नामी और काबिल हस्तियों के नाम जुड़े हैं अगर वे मैनपुरी की लिए थोड़ा भी करते तो आज मैनपुरी पिछड़ी न होती.में बस इतना जनता हूँ की मैनपुरी का पिछले जन्म का कोई ऋण है जो इस जन्म में पत्रकारिता के जरिये चुका रहा हूँ और मुझे इसमें बेहद खुशी है.क्यों कि मुझे ये मोका नसीब हुआ है.

!! आफलाक़ से लायी जाती है
सीने में छुपाई जाती है
तोहीद की मय सागर से नहीं
आखों से पिलाई जाती है !!

हृदेश सिंह

Advertisements
 

7 responses to “सत्यम ने पुरे किए सफलता के तीन साल

  1. kulwant Happy

    दिसम्बर 14, 2009 at 5:37 अपराह्न

    बधाई हो सत्यम न्यूज को।

    और शिवम मिश्रा जी की नेट समस्या सुधरी के नहीं।

     
  2. महेन्द्र मिश्र

    दिसम्बर 14, 2009 at 6:06 अपराह्न

    सत्यम की सालगिरह और सफलता पर बधाई शुभकामनाये ….

     
  3. हरकीरत ' हीर'

    दिसम्बर 14, 2009 at 7:57 अपराह्न

    बस इतना जनता हूँ की मैनपुरी का पिछले जन्म का कोई ऋण है जो इस जन्म में पत्रकारिता के जरिये चुका रहा हूँ और मुझे इसमें बेहद खुशी है.क्यों कि मुझे ये मोका नसीब हुआ है….

    आफलाक़ से लायी जाती है
    सीने में छुपाई जाती है
    तोहीद की मय सागर से नहीं
    आखों से पिलाई जाती है !!

    वाह ….लाजवाब पंक्तियाँ ……!!

    सालगिरह मुबारक …….!!

     
  4. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    दिसम्बर 14, 2009 at 9:55 अपराह्न

    बढ़िया कवरेज!
    शुभकामनाएँ!

     
  5. singhsdm

    दिसम्बर 15, 2009 at 3:47 अपराह्न

    सत्यम परिवार को बहुत बहुत बधाई……….मैनपुरी जैसे शहर में सत्यम का आना एक वैचारिक- मानसिक आन्दोलन है……..पूरे सत्यम परिवार ने जिस ज़िम्म्मेदारी से अपनी भूमिका निभायी है वो काबिले दाद है……. शेखर नंदू हृदेश के अलावा इस आन्दोलन से जुड़े सुबोध. अजय. आशीष. आकांक्षा. नेहा.विशाल. चेतन.बोबी.प्रगति. रामपाल और गौरव को भी हमारी शुभकामनाएं.

     
  6. singhsdm

    दिसम्बर 15, 2009 at 3:47 अपराह्न

    सत्यम परिवार को बहुत बहुत बधाई……….मैनपुरी जैसे शहर में सत्यम का आना एक वैचारिक- मानसिक आन्दोलन है……..पूरे सत्यम परिवार ने जिस ज़िम्म्मेदारी से अपनी भूमिका निभायी है वो काबिले दाद है……. शेखर नंदू हृदेश के अलावा इस आन्दोलन से जुड़े सुबोध. अजय. आशीष. आकांक्षा. नेहा.विशाल. चेतन.बोबी.प्रगति. रामपाल और गौरव को भी हमारी शुभकामनाएं.

     
  7. Smart Indian - स्मार्ट इंडियन

    दिसम्बर 28, 2009 at 4:12 पूर्वाह्न

    बहुत बहुत बधाई!

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: