RSS

बताओ करें तो करें क्या ……………….??????

25 अगस्त
हाँ हाँ यादो में है अब भी ,
क्या सुरीला वो जहाँ था ,
हमारे हाथो में रंगीन गुब्बारे थे
और दिल में महेकता समां था ……….

वो खवाबो की थी दुनिया ……….
वो किताबो की थी दुनिया ………………
साँसों में थे मचलते ज़लज़ले और
आँखों में ‘वो’ सुहाना नशा था |

वो जमी थी , आसमां था ………..
हम खड़े थे ,
क्या पता था ???
हम खड़े थे जहाँ पर उसी के किनारे एक गहेरा सा अंधा कुआँ था ………………

फ़िर ‘वो’ आए भीड़’ बन कर ,
हाथो में थे उनके’ खंज़र …………….
बोले फैंको यह किताबे , और संभालो यह सलाखें !!!
यह जो गहेरा सा कुआँ’ है …………….
हाँ …. हाँ …. अंधा’ तो नहीं है !!
इस ‘कुएं’ में है ‘खजाना’ ……
कल की दुनिया तो यही’ है ….

कूद जाओ ले के खंज़र ……
काट डालो जो हो अन्दर …………
तुम ही कल के हो…………..

‘शिवाजी’ ……….

तुम ही कल के हो ……………

‘सिकंदर’……………. ||

हम ने ‘वो’ ही किया जो उन्होंने’ कहा,

क्युकी ‘उनकी’ तो ‘खवहिश’ यही थी ……
हम नहीं जानते यह भी कि क्यों ‘यह’ किया ………….

क्युकी ‘उनकी’ ‘फरमाइश’ यही थी |


अब हमारे लगा ज़एका’ खून’ का ………
अब बताओ करें तो करें क्या ???
नहीं है कोई’ जो हमें कुछ बताएं …………..
बताओ करें तो करें …………..

‘क्या’ ??????

फ़िल्म :- गुलाल ; संगीत :- पियूष मिश्रा ; गीतकार :- पियूष मिश्रा

Advertisements
 
10 टिप्पणियाँ

Posted by on अगस्त 25, 2009 in बिना श्रेणी

 

10 responses to “बताओ करें तो करें क्या ……………….??????

  1. कुश

    अगस्त 25, 2009 at 4:54 अपराह्न

    फिल्म गुलाल के इस गीत की मूल भावना को ध्यान में रखते हुए आपने उम्दा चित्रों से इसे पुन जिवंत कर दिया..

     
  2. gargi gupta

    अगस्त 25, 2009 at 5:48 अपराह्न

    bhut hi bhav puran rachna pr presentation kamal ki hai

     
  3. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    अगस्त 25, 2009 at 5:49 अपराह्न

    इस सुन्दर पोस्ट के लिए बधाई!

     
  4. अजय कुमार झा

    अगस्त 25, 2009 at 6:11 अपराह्न

    शिवम जी…अन्दाज़े बयां का ये नया ही अन्दाज़ देखा…प्रभावित किया इस पोस्ट ने…

     
  5. Mumukshh Ki Rachanain

    अगस्त 25, 2009 at 7:36 अपराह्न

    बेहतरीन चित्रमय प्रस्तुति, सचमुच सोचने लगा, करें तो क्या करे…………..

     
  6. परमजीत बाली

    अगस्त 25, 2009 at 10:47 अपराह्न

    बहुत बढिया चित्रमय प्रस्तुति।बधाई।

     
  7. Babli

    अगस्त 27, 2009 at 1:44 अपराह्न

    बहुत ही सुंदर रूप से बढ़िया तस्वीरों के साथ आपने प्रस्तुत किया है ! बहुत अच्छा लगा !

     
  8. चन्दन कुमार

    अगस्त 28, 2009 at 11:04 पूर्वाह्न

    bahut badhiya

     
  9. कंचन सिंह चौहान

    अगस्त 8, 2010 at 1:24 पूर्वाह्न

    Major saab ki post par ye link padh kar idhar aai… vaquai badhiya andaz

     
  10. गौतम राजरिशी

    अगस्त 10, 2010 at 1:27 पूर्वाह्न

    जब पहली बार इस गाने को सुना था तो सिहर उठा था…और तब से जाने कितनी बार सुन चुका हूँ। उस दिन जब आपने फोन पर इस बाबत बताया था, तभी से उत्सुक था इस पोस्ट को देखने के लिये।

    अभूतपूर्व चित्रमय प्रस्तुति गाने की। a real good one shivam ji

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: